महासागरों में ज्वार-भाटा की उत्पत्ति के क्या कारण हैं?

महासागरों में ज्वार-भाटा की उत्पत्ति के क्या कारण हैं?
अ. सूर्य के प्रभाव से
ब. पृथ्वी की घूर्णन गति से
स. सूर्य और चन्द्रमा के संयुक्त प्रभाव से
द. गुरुत्वाकर्षण, अभिकेन्द्रीय बल तथा अपकेन्द्रीय बल से
उत्तर— स

व्याख्या— सूर्य तथा चन्द्रमा की आकर्षण शक्ति के कारण सागर के जल में उठाव ज्वार तथा गिरना भाटा कहलाता है।
सूर्य तथा चन्द्रमा की आकर्षण शक्ति का अनुपात 5:11 है।
चन्द्रमा की आकर्षण शक्ति सूर्य की आकर्षण शक्ति से 2.17 गुना ज्यादा है।
सामान्यत: किसी स्थान पर एक दिन में दो ज्वार तथा दो भाटा आते हैं।
एक ज्वार चन्द्रमा की आकर्षण शक्ति से तथा एक बार अपकेन्द्रीय बल द्वारा आता है।
एक ज्वार के पश्चात् दूसरा ज्वार 26 मिनट की देरी से आता है।
कारण- चन्द्रमा के पृथ्वी के चारों ओर परिक्रमण के कारण।
एक ज्वार के पश्चात् भाटा 6 घण्टे 13 मिनट बाद आता है।
चन्द्रमा की आकर्षण शक्ति द्वारा आने वाला ज्वार प्रत्यक्ष ज्वार तथा अपकेन्द्रीय बल द्वारा आने वाला ज्वार अप्रत्यक्ष ज्वार कहलाता है।

वृहत ज्वार भाटा आता है?
अ. जब सूर्य, पृथ्वी तथा चन्द्रमा एक सीधी रेखा में होते हैं।
ब. जब सूर्य तथा चन्द्रमा पृथ्वी में समकोण बनाते हैं।
स. जब तेज हवा चलती है।
द. जब रात बहुत ठंडी होती है।
उत्तर— अ

निम्न प्रश्न में दो वक्तव्य हैं, एक को कथन A तथा दूसरे को कारण R कहा गया है, इन वक्तव्यों का सावधानीपूर्वक परीक्षण कर इन प्रश्नों का उत्तर नीचे दिए कूट की सहायता से चुनिए—
कथन A: लघु ज्वार-भाटाओं के समय उच्च ज्वार सामान्य से निम्नतर तथा निम्न ज्वार सामान्य से उच्चतर होता है।
कारण R: लघु ज्वार भाटा वृहत ज्वार-भाटा के विपरीत पूर्ण चन्द्र के स्थान पर नव चन्द्र के समय होता है।
कूट:
अ. A और R दोनों सही हैं और R, A का सही स्पष्टीकरण है।
ब. A तथा R दोनों सही हैं परंतु R, A का सही स्पष्टीकरण नहीं है
स. A सही है, परंतु R गलत है।
द. A गलत है, परंतु R सही है।

उत्तर— स
व्याख्या—
जब सूर्य, पृथ्वी एवं चन्द्रमा एक सीधी रेखा में होते हैं तब उनकी सम्मिलित शक्ति के कारण दीर्घ ज्वार आता है। ऐसा पूर्णमासी या अमावस्या को होता है। इसके विपरीत जब सूर्य, पृथ्वी एवं चन्द्रमा समकोण पर होते हैं तब निम्न ज्वार आता है। यह कृष्ण पक्ष एवं शुक्ल पक्ष की सप्तमी व अष्टमी को देखा जाता है। लघु ज्वारभाटा के समय उच्च ज्वार सामान्य से 20 % निम्न तथा निम्न ज्वार सामान्य से 20 % उच्चतर होता है।

सभी वृहत् ज्वारों में सबसे ऊंचा ज्वार किस समय घटित होता है?
अ. दक्षिण अयनांत के साथ पूर्णिमा या अमावस्या
ब. विषुव के साथ पूर्णिमा या अमावस्या
स. उत्तर अयनांत के साथ पूर्णिमा या अमावस्या
द. दक्षिण अयनांत और वैसे ही उत्तर अयनांत
उत्तर— ब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *