Rakesh

कम्प्यूटर की मेमोरी मापने की सबसे छोटी इकाई है

कम्प्यूटर इकाई कम्प्यूटर में डाटा इनपुट करने पर वह मेमोरी में जगह घेरता है, जिसे मापने के लिए प्रयोग की जाने वाली सबसे छोटी इकाई बिट (Bit) कहलाती है। Binary Number System में इसके दो ही मान (0 अथवा 1) हो सकते हैं। 1 बिट = सबसे छोटी इकाई (b) 4 बिट = 1 निब्बल …

कम्प्यूटर की मेमोरी मापने की सबसे छोटी इकाई है Read More »

राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेल में निम्न से कौनसा खेल सम्मिलित नहीं था?

राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेल में निम्न से कौनसा खेल सम्मिलित नहीं था?1. कबड्डी2. वॉलीबाल3. शूटिंगबॉल4. बैडमिंटनउत्तर- 4राजस्थान में 29 अगस्त से 20 अक्टूबर, 2022 तक आयोजित राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक खेल में कुल 6 खेलों (कबड्डी, शूटिंगबॉल, टेनिसबॉल क्रिकेट, खो-खो, वॉलीबाल, हॉकी) को सम्मिलित किया गया।

गवरी लोक नृत्य किस क्षेत्र में प्रसिद्ध है?

गवरी लोक नृत्य किस क्षेत्र में प्रसिद्ध है? – मेवाड़ क्षेत्रमेवाड़ अंचल में आने वाले जिले–उदयपुर, राजसमंद, प्रतापगढ़ और चित्तौड़गढ़ इन क्षेत्रों में गवरी नृत्य प्रसिद्ध है।गवरी नृत्य के बारे में निम्न कथनों को ध्यानपूर्वक पढ़ें और बताइये इनमें से कौनसे कथन सत्य है?1. गवरी नृत्य रक्षाबंधन के दूसरे दिन से आरंभ होता है2. यह …

गवरी लोक नृत्य किस क्षेत्र में प्रसिद्ध है? Read More »

कंधमाल हल्दी

कंधमाल हल्दी को मिला जीआई टैग

Kandhamal Haldi Kandhamal, Odisha Kandhamal Haldi – A variety of turmeric indigenous to southern Odisha, has earned the Geographical indication (GI) tag from Intellectual Property India. Kandhamal in Odisha’s southern hinterland is famed for its turmeric, a spice that enjoys its pride of place in an array of cuisines. The agricultural product also stands out …

कंधमाल हल्दी को मिला जीआई टैग Read More »

राजस्थान में गृह रक्षा स्वयं सेवकों के 3842 पदों पर 12 जनवरी से करें आवेदन

राजस्थान सरकार के गृह रक्षा विभाग (Rajasthan Government Home Guard Department) द्वारा गृह रक्षा स्वयं सेवकों (Home Guard ) के 3841 (सीमा गृह रक्षा के 297 एवं शहरी गृह रक्षा के 3545) पदों पर नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। आवेदन शुरू:   12 जनवरी, 2023 से आवेदन की अंतिम तिथि:   11 फरवरी, …

राजस्थान में गृह रक्षा स्वयं सेवकों के 3842 पदों पर 12 जनवरी से करें आवेदन Read More »

हिन्दी के प्रसिद्ध उपन्यासकार एवं उनके महत्वपूर्ण उपन्यास

राहुल सांकृत्यायान के उपन्यास जीने के लिए (सामाजिक उपन्यास, 1940) सिंह सेनापति (1942) जय यौधेय (1944) मधुर स्वप्न (1950) विस्मृत-यात्री (1953) दिवोदास (1962) बाइसवीं सदी नागार्जुन के उपन्यास रतिनाथ की चाची (1948) बलचनमा (1952) नई पौध (1953) बाबा बटेसरनाथ (1954) दुखमोचन (1956) वरूण के बेटे (1957) कुंभीपाक (1960) हीरक जयन्ती (1961) उग्रतारा (1963) इमरतिया (1968) …

हिन्दी के प्रसिद्ध उपन्यासकार एवं उनके महत्वपूर्ण उपन्यास Read More »

राजस्थान बेघर उत्थान एवं पुनर्वास नीति-2022 क्या है?

राजस्थान बेघर उत्थान एवं पुनर्वास नीति-2022 के अंतर्गत 50 वर्ग फीट प्रति व्यक्ति की न्यूनतम जगह के साथ छत उपलब्ध कराने, महिलाओं, मानसिक रूप से विक्षिप्तों एवं बीमारों जैसे विशेष श्रेणी के लोगों को समुचित निजता एवं सुरक्षा उपलब्ध करवाए जाने संबंधी प्रावधान किए गए हैं। राजस्थान बेघर उत्थान एवं पुनर्वास नीति-2022 का अनुमोदन 24 …

राजस्थान बेघर उत्थान एवं पुनर्वास नीति-2022 क्या है? Read More »

हिन्दी साहित्य के प्रमुख रचनाकारों की प्रसिद्ध कृतियां

  ‘चिंतामणि’ किसके निबंधों का संकलन है? – आचार्य रामचंद्र शुक्ल ‘सरोज स्मृति’ नामक रचना किस कवि ने की है? – निराला ‘सरस्वती’ पत्रिका ने निराला की किस रचना को अस्वीकृत कर दिया था? – जूही की कली ‘रसवंती’ के रचनाकार का नाम लिखिए? – रामधारी सिंह ​’दिनकर’ ‘मधुशाला’ के रचनाकार का नाम लिखिए? – …

हिन्दी साहित्य के प्रमुख रचनाकारों की प्रसिद्ध कृतियां Read More »

भक्तिकाल: हिन्दी साहित्य का स्वर्ण युग

  भक्ति काल अथवा पूर्व मध्यकाल हिन्दी साहित्य का महत्वपूर्ण काल है, जिसे स्वर्ण युग विशेषण से विभूषित किया जाता है। इस काल की समय सीमा विद्वानों द्वारा संवत 1375 से 1700 तक माना गया है। राजनैतिक, सामाजिक, धार्मिक, दार्शनिक, साहित्यिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से अंतर्विरोध से परिपूर्ण होते हुए भी इस काल में भक्ति …

भक्तिकाल: हिन्दी साहित्य का स्वर्ण युग Read More »

दिल्ली सल्तनत के अधीन केन्द्रीय प्रशासन

  दिल्ली सल्तनत के केन्द्रीय प्रशासन का संचालन सुल्तान की अधीनता में विभिन्न अमीरों की देख-रेख में होता था। सुल्तान प्रारंभिक इस्लामी व्यवस्था में सुल्तान के पद का कोई अस्तित्व नहीं था। खिलाफत की शक्ति के क्षीण होने के साथ सुल्तान एक शक्तिशाली शासक के रूप में अस्तित्व में आया। वह एक स्वतंत्र राज्य के …

दिल्ली सल्तनत के अधीन केन्द्रीय प्रशासन Read More »