1935 का अधिनियम

1935 का अधिनियम एक विस्तृत अधिनियम था। यह अंग्रेजों द्वारा भारत में लागू की गई अंतिम महत्वपूर्ण संवैधानिक व्यवस्था थी। इसे लागू करने के कई कारण थे। 1919 का मांटेग्यू …

Read More

राज्यसभा

  भारत की केन्द्रीय व्यवसथापिका को संसद कहा जाता है। भारतीय संसद के तीन अंग हैं- राष्ट्रपति, राज्यसभा और लोकसभा। राज्यसभा और लोकसभा के रूप में संसद के दो सदन …

Read More

प्रधानमंत्री के कार्य

  प्रधानमंत्री सहित सभी मंत्रियों (कैबिनेट, राज्यमंत्री एवं उपमंत्री) के समूह को मंत्रिपरिषद् कहा जाता है। मंत्रिपरिषद् की रचना के विभिन्न चरण हैं— प्रधानमंत्री की नियुक्ति — अनुच्छेद 75(1) के …

Read More

पंचायती राज व्यवस्था में सुधार हेतु गठित अन्य समितियां

पंचायती राज व्यवस्था में सुधार हेतु गठित अन्य समितियां अशोक मेहता समिति, 1977 की सिफारिशें द्विस्तरीय पंचायती राज प्रणाली को अपनाया जाय अर्थात् ग्राम पंचायत के स्थान पर मंडल पंचायते …

Read More

प्रस्तावना (Preamble)

हमारे संविधान के प्रारंभ में एक प्रस्तावना है जिसके द्वारा संविधान में मूल उद्देश्यों को स्पष्ट किया है जिससे संविधान की क्रियान्वति तथा उसका पालन संविधान की मूल भावना के …

Read More

भारतीय संविधान की विशेषताएं

Salient Features of Indian Constitution – सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न संविधान (Sovereign Constitution) –भारत का संविधान लोकप्रिय प्रभुसत्ता पर आधारित संविधान है अर्थात यह भारतीय जनता द्वारा निर्मित है। इस संविधान …

Read More

राजस्थान में मंत्रिपरिषद की अधिकतम संख्या कितनी हो सकती है?

अ. राज्य के मुख्यमंत्री की इच्छा पर निर्भर है ब. राज्य के राज्यपाल की इच्छा पर निर्भर है स. राजस्थान विधानसभा की सदस्य संख्या का 15% तक द. सत्ता पक्ष …

Read More

राजस्थान में राष्ट्रपति शासन कितनी बार लगाया गया?

01. राज्यपाल की नियुक्ति किसके द्वारा की जाती है? अ. मुख्यमंत्री द्वारा ब. विधानसभा सदस्यों द्वारा स. राष्ट्रपति द्वारा द. प्रधानमंत्री द्वारा उत्तर- से 02. निम्न कथनों में से कौन …

Read More

भारत सरकार अधिनियम, 1858

क्राउन शासन के अधीन संवैधानिक विकास 1857 ई. के विद्रोह के शांत होने के बाद भारत का शासन ईस्ट इंडिया कम्पनी के हाथों से निकलकर ब्रिटिश क्राउन के हाथ में …

Read More

भारत का संवैधानिक विकास: चार्टर एक्ट 1813, 1833

1813 का चार्टर एक्ट 1813 के चार्टर एक्ट द्वारा कम्पनी का भारतीय व्यापार पर एकाधिकार समाप्त कर दिया गया, यद्यपि उसके चीन के व्यापार का तथा चाय के व्यापार का …

Read More