सविनय अवज्ञा आन्दोलन की प्रगति

सविनय अवज्ञा आन्दोलन की प्रगति तमिलनाडृ में गांधीवादी राजनेता सी. राजगोपालाचारी ने निरुचेनगोड आश्रम से त्रिचुरापल्ली के वेदारण्यम् तक नमक यात्रा की। मालाबार में नमक सत्याग्रह की शुरुआत वायकोम सत्याग्रह के नेता के. केलप्पड ने कालीकट से पेन्नार तक नमक यात्रा की। असम के लोगों ने सिलहट से नोआखली तक Read more…

सविनय अवज्ञा आन्दोलन 1930-34

सविनय अवज्ञा का तात्पर्य अंग्रेजी शासन के कानूनों की शान्तिपूर्ण ढंग से अवहेलना करना। महात्मा गांधी को सविनय अवज्ञा आन्दोलन के कार्यक्रम की घोषणा करने का अधिकार 1 फरवरी 1930 ई. की कांग्रेस कार्यकारिणी से मिल चुका था। 14-16 फरवरी 1930 ई. तक कांग्रेस कार्यकारिणी की एक बैठक में एक Read more…