भक्तिकाल: हिन्दी साहित्य का स्वर्ण युग

  भक्ति काल अथवा पूर्व मध्यकाल हिन्दी साहित्य का महत्वपूर्ण काल है, जिसे स्वर्ण युग विशेषण से विभूषित किया जाता है। इस काल की समय सीमा विद्वानों द्वारा संवत 1375 से 1700 तक माना गया है। राजनैतिक, सामाजिक, धार्मिक, दार्शनिक, साहित्यिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से अंतर्विरोध से परिपूर्ण होते हुए भी इस काल में भक्ति …

भक्तिकाल: हिन्दी साहित्य का स्वर्ण युग Read More »