मौर्यकालीन कला

मौर्ययुगीन कला को दो भागों में बांटा जा सकता है- दरबारी अथवा राजकीय कला जिसमें राजप्रासाद, स्तम्भ, गुहा-विहार, स्तूप लोककला जिसमें स्वतंत्र कलाकारों द्वारा लोकरूचि की वस्तुओं का निर्माण किया …

Read More