ब्रह्म समाज

राजा राममोहन राय: भारत के अग्रदूत और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ बिगुल फूंका

19वीं शताब्दी के सांस्कृतिक जागरण के अग्रगामी थे। उन्हें आधुनिक भारत के निर्माता के रूप में जाना जाता है। सुभाष चन्द्र बोस ने राजा राममोहन राय को ‘युगदूत’ की उपाधि से सम्मानित किया था। पट्टाभिसीता रमैय्या ने लिखा ‘अद्वितीय व्यक्तित्व के धनी राजाराम मोहन राय को भारतीय राष्ट्रवाद का अग्रदूत और जनक कहा जाता है।’ …

राजा राममोहन राय: भारत के अग्रदूत और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ बिगुल फूंका Read More »

भारत में धर्म सुधार आंदोलन से संबंधित प्रश्न

राजा राममोहन राय का धर्म सुधार आंदोलन में योगदान से संबंधित प्रश्न भारतीय पुनर्जागरण आन्दोलन के पिता कौन थे? — राजा राममोहन राय ‘ब्रह्म समाज’ का उद्देश्य क्या था? — एकेश्वरवाद का प्रचार करना ब्रह्म समाज का विरोधी संगठन कौन-सा था जिसने सती प्रथा व अन्य सुधारों का विरोध किया? — धर्म सभा ‘प्रीसेप्टस ऑफ …

भारत में धर्म सुधार आंदोलन से संबंधित प्रश्न Read More »

भारत में राष्ट्रवाद का उदय एवं विकास

उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में राष्ट्रीय भावना के विकास के परिणामस्वरूप राजनीतिक आंदोलन का सूत्रपात हुआ। भारतीयों ने राजनीतिक आंदोलन के माध्यम से अंग्रेजी सत्ता से मुक्ति प्राप्त करने के लिए एक लंबा संघर्ष किया। अंग्रेजी शासन काल में भारतीयों में राष्ट्रीयता की भावना के उदय के निम्न कारण थे- शोषणकारी आर्थिक नीति- आधुनिक भारतीय …

भारत में राष्ट्रवाद का उदय एवं विकास Read More »