मौर्ययुगीन कला

मौर्ययुगीन कला को दो भागों में बांटा जा सकता है- दरबारी अथवा राजकीय कला जिसमें राजप्रासाद, स्तम्भ, गुहा-विहार, स्तूप लोककला जिसमें स्वतंत्र कलाकारों द्वारा लोकरूचि की वस्तुओं का निर्माण किया गया, जैसे- यक्ष-यक्षिणी, प्रतिमाएं, मिट्टी की मूर्तियां आदि। स्तम्भ कला स्तम्भ मौर्ययुगीन वास्तुकला के सबसे अच्छे उदाहरण है। सर जॉन मार्शल, पर्सीब्राउन, स्टेला कैम्रिश जैसे …

मौर्ययुगीन कला Read More »