हिमालय के प्रमुख दर्रे

कराकोरम दर्रा

यह जम्मू—कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में हिमालय के कराकोरम श्रणियों के मध्य स्थित है।

हिमालय पर्वत श्रेणी का यह सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित दर्रा है जो 5,654 मीटर ऊंचा है। 

प्राचीन काल में इस दर्रे से होकर यारकंद को मार्ग जाता था। 

रोहतांग दर्रा

यह दर्रा हिमाचल प्रदेश में पीर—पंजाल श्रेणियों में 4,631 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

बड़ालाचा दर्रा

हिमाचल प्रदेश में जास्कर श्रेणियों के मध्य स्थित यह दर्रा मण्डी से लेह जाने का मार्ग प्रदान करता है। यह दर्रा 4,512 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। 

बुर्जिल दर्रा 

यह दर्रा जम्मू—कश्मीर में स्थित है। इस दर्रा की ऊंचाई 3,750 मीटर है। इस दर्रे से होकर काश नगर और मध्य एशिया का मार्ग गुजरता है। 

जोजिला दर्रा 

यह दर्रा जम्मू—कश्मीर में जास्कर श्रेणी में स्थित है। यह 3,529 मीटर ऊंचा है। इस दर्रे से होकर श्रीनगर से लेह का मार्ग गुजरता है। 

पीर पंजाल दर्रा 

यह दर्रा जम्मू—कश्मीर के दक्षिण—पश्चिम में पीर पंजाल श्रेणी में के मध्य स्थित है। इसकी ऊंचाई 3,494 मीटर है। यह दर्रा कुलगांव से कोठी हेतु मार्ग उपलब्ध करवाता है। 

शिपकीला दर्रा 

हिमाचल प्रदेश में जास्कर श्रेणियों के मध्य स्थित यही इस दर्रे से होकर शिमला से तिब्बत का मार्ग उपलब्ध होता है।

नाथूला दर्रा

सिक्किम में डोगेक्या श्रेणी में स्थित है।

इस दर्रे से दार्जिलिंग और चुम्बी घाटी होकर तिब्बत जाने वाला मार्ग गुजरता है। 

नीति दर्रा

उत्तरांचल के कुमाऊं श्रेणी में स्थित है

इस दर्रे से होकर मानसरोवर और कैलाश घाटी जाने का मुख्य मार्ग गुजरता है।

माना दर्रा

उत्तरांचल के कुमाऊं श्रेणी में स्थित है

इस दर्रे से होकर मानसरोवर और कैलाश घाटी का मार्ग गुजरता है।

बनिहाल दर्रा

जम्मू—कश्मीर के पीर—पंजाल श्रेणियों में स्थित दर्रा।

यह दर्रा जम्मू से श्रीनगर का मार्ग उपलब्ध कराता है।

बोमडिला दर्रा

यह दर्रा अरुणाचल प्रदेश के उत्तर—पश्चिम में स्थि​त है। इससे होकर तिब्बत जाने का मार्ग गुजरता है।

याम्याप दर्रा

यह दर्रा अरुणाचल प्रदेश के उत्तर—पूर्व में स्थित है।

इसी के समीप से ब्रह्मपुत्र नदी भारत में प्रवेश करती है। 

चीन के लिए मार्ग भी इस दर्रे से होकर जाता है।

पांग साद्र दर्रा

अरुणाचल प्रदेश के दक्षिण म्यान्मार सीमा पर स्थित है।

इस दर्रे से होकर डिब्रूगढ़ से म्यान्मार के लिए मार्ग जाता है।

तुजु दर्रा

मणिपुर के दक्षिण पश्चिम में म्यान्मार की सीमा पर स्थित। 

इस दर्रे से इम्फाल से म्यान्मार को मार्ग जाता है।

पालघाट दर्रा

केरल को तमिलनाडु तथा कर्नाटक से जोड़ता है।

थाल घाट

इससे होकर मुम्बई—कोलकाता मार्ग गुजरता है।

भोर घाट

इससे होकर मुम्बई-पूना एवं दक्षिण को मार्ग जाता है।

भारत-पाकिस्तान के मध्य स्थि​त दर्रे

पश्चिमी हिमालय पर्वत श्रेणियों में स्थित दर्रे

खैबर दर्रा

यह पेशावर (पाकिस्तान) को काबुल से जोड़ता है।

बोलन घाटी

यह क्वेटा एवं पाकिस्तान को खक्खर से जोड़ता है।

अन्य दर्रे— मकरान, गोमल, टोची, कुर्रम आदि।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *