बीकानेर के राठौड़ वंश की स्थापना किसने की थी?

राव बीका (1465-1504 ई.)
  • करणी माता बीकानेर के राठौड़ों की कुल देवी
  • करणी माता के वरदान से जांगल प्रदेश को जीतकर बीकानेर में राठौड़ वंश की स्थापना की।
राव लूणकरण 1505-1526 ई.
  • बिटू सूजा द्वारा रचित राव जैतसी रो छन्द में रावलूणकरण को ‘कलयुगी कर्ण’ कहा है।
    बीकानेर में लूणकरणसर झील का निर्माण करवाया।
राव जैतसी 1526-1542 ई.
  • राव जैतसी के समय लाहौर शासक कामरान ने भटनेर दुर्ग (हनुमानगढ़) पर आक्रमण कर दिया था। जिसे उसने विफल कर दिया।
    युद्ध का वर्णन – बीठू सूजा द्वारा रचित ‘राव जैतसी रो छन्द’ मे किया गया।
    पाहेबा-साहेबा का युद्ध -1541
  • राव जैतसी और मालदेव के बीच, जिसमें मालदेव की विजय हुई।
  • इस युद्ध के बाद राव जैतसी का पुत्र कल्याणमल शेरशाह सूरी की शरण में चला गया।
गिरी-सुमेल का युद्ध 1544 ई.
  • जनवरी 1544 में शेरशाह सूरी और मालदेव के बीच हुआ जिसमें शेरशाह विजयी हुआ।
  • कल्याणमल ने शेरशाह सूरी का साथ दिया जिससे पुनः बीकानेर का शासन उसे मिला।
कल्याणमल 1544-1574 ई.
  • नागौर दरबार में मुगलो की अधीनता स्वीकार की।
    इसके दो पुत्र थे – रायसिंह राठौड़ और पृथ्वीराज राठौड़
पृथ्वीराज राठौड़ –
  • उच्चकोटि का कवि था।
  • अकबर ने उसको गागरोन का किला जागीर में दिया था।
  • इन्होंने बेलि क्रिसन रूकमणी री रचना की।
  • कवि आढ़ ने इस रचना को पांचवा वेद एवं 19वां पुराण कहा है।
  • इतालवी कवि डॉ. तेस्सितोरी ने कवि पृथ्वीराज राठौड़ को ‘डिंगल का होरेस’ कहा है।
रायसिंह 1574- 1612 ई.
  • आमेर रियासत के बाद मुगलों से सबसे अच्छे सम्बन्ध थे।
  • 1570 ई. में नागौर दरबार में अकबर ने जोधपुर का शासक नियुक्त किया।
  • तीन मुगल शासकों की सेवा की – अकबर, जहांगीर और शाहजहां
  • काठोली की लड़ाई – 1572 ई.
    रायसिंह और हुसैन कुली मिर्जा के बीच। जिसमें रायसिंह विजयी हुआ।
  • 1574 ई. में राव चन्द्रसेन पर आक्रमण किया।
  • 1576 ई. में ताज खां को पराजित किया।
  • अकबर ने इसे 4000 हजार की मनसब प्रदान की थी।
  • जहांगीर से मधुर सम्बन्ध थे और उसे 5000 मनसब प्रदान की।
  • मुंशी देवी प्रसाद ने रायसिंह को राजपूताने का कर्ण कहा।
  • रायसिंह ने अपने मंत्री कर्मचन्द की देखरेख में बीकानेर में जूनागढ़ दुर्ग का निर्माण करवाया तथा दुर्ग में रायसिंह प्रशस्ति उत्कीर्ण करवाई।
  • कर्मचन्द वंशोत्कीर्तन काव्यम में रायसिंह को राजेन्द्र कहा।
  • दक्षिणी अभियान पर उनकी 1612 ई. में बुरहानपुर में मृत्यु हो गई।
कर्णसिंह 1631-1669 ई.
  • मुगल शासकों द्वारा जांगलधर बादशाह की उपाधि प्रदान की गई।
  • बीकानेर में अपनी कुल देवी करणी माता के मंदिर का निर्माण करवाया।
  • दरबारी कवि गंगानंद मैथिली द्वारा साहित्य कल्पद्रुम की रचना की गई।
  • मतीरे की राड़ युद्ध 1644 ई. में
    कर्णसिंह और अमरसिंह राठौड़ (नागौर) के बीच। जिसमें अमरसिंह राठौड़ की विजय हुई।
अनूपसिंह 1669-1698 ई.
  • बीकानेर चित्रशैली का स्वर्ण काल
  • अनूपसिंह के समय आनंदराम ने गीता का राजस्थानी में अनुवाद किया था।
  • दरबारी कवि भावभद्र की सहायता से बीकानेर में अनूपविलास पुस्तकालय का निर्माण किया।
  • औरंगजेब द्वारा अनूपसिंह को महाराजा व महाभरातिव की उपाधि प्रदान की।
सरदार सिंह
  • 1857 ई. की क्रांति के समय बीकानेर के शासक था। राजस्थान का एकमात्र शासक जिसने रियासत से बाहर जाकर अंग्रेजों का साथ दिया।
गंगासिंह 1887-1943 ई.
  • आधुनिक भारत का भागीरथ व राजपूताने का भागीरथ कहा जाता है।
  • बीकानेर में गंगासिंह विश्वविद्यालय का निर्माण करवाया।
  • प्रथम विश्वयुद्ध में गंगा रिसाला सेना के साथ भाग लिया।
  • वर्साय शांति सम्मेलन में भाग लिया।
  • 1921 में इनके प्रयत्नों से नरेन्द्र मण्डल की स्थापना तथा प्रथम चासंलर बने।
  • 1927 ई. में गंगनहर का निर्माण करवाया।
  • रियासतों के प्रतिनिधित्व के रूप तीनो गोलमेज (प्रथम 1930, द्वितीय 1931 और तृतीय 1931 ई. लन्दन में) सम्मेलनों में भाग लिया।

शार्दुल विक्रमसिंह 1943-1949 ई.

  • राजस्थान के एकीकरण के समय बीकानेर के शासक थे।
read more – राजस्थान के प्रमुख पशु मेले, नागौर का तेजाजी मेला

Leave a Reply